मंगलवार, 14 फ़रवरी 2017

मेरा हिस्सा.. तेरा किस्सा..

देख तेरी तस्वीर को

मुझे एक किस्सा याद आया

ज़िन्दगी का मेरी

एक हिस्सा याद आया।

मेरे हिस्से की ज़िंदगी में

बस तेरा ही किस्सा है माही!

जो पल बिताया है साथ तेरे

वो इक पल भी न तेरे बाद आया।

#माही

1 टिप्पणी:

  1. दिनांक 15/02/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंदhttps://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...
    आप की प्रतीक्षा रहेगी...

    उत्तर देंहटाएं